सहस्त्र औदीच्य समाज उज्जैन का सोलहवां परिचय सम्मेलन सानन्द सम्पन्न|

  उज्जैन- 21/12/20 14

सहस्त्र औदीच्य समाज उज्जैन का सोलहवां परिचय सम्मेलन दिनांक 21 दिसम्बर 2014 को सानन्द सम्पन्न|

परिचय सम्मेलन एक जादुई चिराग-जहां पूरी होती मन की मुराद।[wp-booklet id=1284]

        16 वे पुष्प के रूप में अ. भा. सहस्त्र औदीच्य समाज युवक/ युवती परिचय सम्मेलन दिनांक 21 दिसम्बर 2014 को सानन्द सम्पन्न हुआ। आयोजन के मुख्य अतिथि श्री रघुनंदन जी शर्मा, अध्यक्ष अ.भा.औदीच्य महासभा, एवं विशेष अतिथि श्री उदयसिंह जी पण्ड्या, उपाध्यक्ष अ. भा. औदीच्य महासभा, श्री हीरालाल जी त्रिवेदी, सूचना आयुक्त, श्री रमेशचन्द्र जी पण्ड्या, अपर कलेक्टर, श्री सुभाष शर्मा, महापौर देवास, श्री राजेन्द्र पाण्डे विधायक जावरा, श्री शिवनारायण जी जागीरदार, पूर्व विधायक, श्री मोहनलाल जी जोशी, अध्यक्ष महामालव धर्मशाला उज्जैन, श्री वासुदेव जी रावल, से. नि. डीएसपी, श्री प्रकाश जी दुबे, अध्यक्ष अ.भा.औदीच्य महासभा म. प्र. , श्री सुरेश उपाध्याय, अध्यक्ष वरिष्ठजन समिति उज्जैन, श्री भगवानसिंह शर्मा, संगठन मंत्री, श्री संदीप शर्मा समाजसेवी, श्रीमती ऋतुबाला व्यास पार्षद, श्रीमती माया बदेका थे। 10858539_794470003954013_7807885219179128607_n     सर्वप्रथम अतिथिगणों व्दारा भगवान गोविन्द माधव का पूजन अर्चन कर माल्यार्पण किया गया। इस अवसर पर बटुक श्री पुनीत मेहता, प्रणय पण्ड्या, श्री वर्धन शास्त्री, राजेश पण्ड्या, ऋषिकेश पण्ड्या व्दारा स्वस्ति वाचन किया गया, जिससे वातावरण में शुध्दता ओर पावनता की उर्जा प्रस्फुटित हुई।

  परिचय सम्मेलन समिति के सदस्यों ने अतिथियों का मोती की माला, भगवान महाकाल का दुपट्टा तथा श्रीफल से भावभीना स्वागत किया गया। स्वागत भाषण एवं अतिथि परिचय अध्यक्ष श्री श्याम मेहता ने दिया। आपने भाव विभोर होकर कहा कि पिछले परिचय सम्मेलन के आयोजकों व्दारा साधनों के अभाव में कैसे कार्य सम्पन्न किया होगा, यह प्रशंसा ओर आश्चर्य का विषय है। आयोजन के सूत्रधार श्री रवि ठक्कर ने parichy 14अपनी ओजस्वी वाणी के जादुई असर से समाज जनों को मन्त्रमुग्ध करते हुए शान्ति की डोर से बांधे रखा।

      परिचय सम्मेलन का मूल आधार है प्रत्याशियों की विस्तृत जानकारी जिसके माध्यम से रिश्तों की महीन डोर बंधती है । उसे ‘‘ जीवन साथी ‘‘ में सुन्दरता के साथ संजोया गया प्रधान संपादक श्री सोहन पंण्डया एवं संपादक श्री पीयूष पण्डया व्दारा तथा विशेष सहयोगी रहे अध्यक्ष श्याम मेहता, सचिव पंकज जोशी, कोषाध्यक्ष श्याम आचार्य, संयोजक अजेन्द्र त्रिवेदी, सन्तोष व्यास, हेमन्त व्यास, राकेश पण्ड्या, अक्षय आचार्य, एवं अतिथिगणों व्दारा ‘‘जीवन साथी‘‘ पत्रिका का विमोचन किया ग या। 1 vimochn

    प्रत्याशियों का परिचय प्रारम्भ हो इसके पूर्व, अतिथियों का आशीर्वाद आवश्यक होता है। इस कडी में श्री राजेन्द्र पाण्डे, श्री हीरालाल जी त्रिवेदी श्री सुभाष जी शर्मा, श्री वासुदेव रावल, श्री रमेशचन्द्र पण्डया, श्री संदीप शर्मा, श्रीमती ऋतुबाला व्यास ने अपने उदबोधन में सदन को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में परिचय सम्मेलन संजीवनी बूटी का काम कर रहा है। आज ऐसे आयोजन की आवश्यकता महसूस की जा रही है क्योंकि व्यक्ति अपनी व्यस्ततम जीवन शैली एवं दूरस्थ स्थानों पर नौकरी करने के कारण परिवार और समाज से दूरी बनाकर रहता है।

   मुख्य अतिथि श्री रघुनन्दन जी शर्मा ने सभी अभिभावकों एवं प्रत्याशियों को इस आयोजन में सहभागीता करने हेतु धन्यवाद देते हुव अपने उदबोधन में कहा कि परिचय सम्मेलन आज की महती आवश्यकता है। युवा युवति अपने जीवन साथी का चयन सा3माजिक मंच से करते हैं तो उन्हे समाज का आशीर्वाद तो मिलता ही है, साथ ही चयनित साथी के संबंध में जो भी जानकारी चाहिए वह भी तत्काल उपलब्ध हो जाती है। परिचय सम्मेलन के माध्यम से एक ही जगह कई प्रत्याशियों को देखने, समझने और चयन करने का अवसर भी प्राप्त होता है, ऐसी सुविधा अन्यत्र उपलब्ध नहीं हो सकती। जीवन साथी पुस्तिका में प्रत्याशीयों की प्रविष्ठियों सहित सदन में उपस्थित युवा युवतियों एवं उनके अभिभावकों की जीवन्त उपस्थिती इसका प्रमाण है। मैं आप सबको बधाई देता हूं साथ ही हम आशा करते हैं कि आप योग्य जीवन साथी का चयन कर अपने जीवन के सपने बुने।

    इस 16वे परिचय सम्मेलन में सम्मिलित होने के लिए राजस्थान, महाराष्ट, गुजरात, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, उडीसा आदि अनेक प्रान्तों से प्रत्याशी और अभिभावक गण उपस्थित हुवे। ‘‘जीवन साथी ‘‘पत्रिका में ल्रगभग 600 प्रविष्ठयों की जानकारी का लेखांकन किया गया। इसी के साथ प्रारम्भ हुआ प्रत्याशियों के परिचय का दौर। प्रत्याशी परिचय के लिए श्री रवि ठक्कर, श्रीमती प्रतिभा अवस्थी, श्रीमती श्लेषा व्यास एवं कु. सलोनी शुक्ला ने मंच को संभाला।

        महाकाल की पावन धरा पर, हर सिध्दी का वास।

       योग्य जीवन साथी मिले, परिचय सम्मेलन का यही प्रयास।।

इसी भावना को लेकर श्री रवि ठक्कर ने युवा युवतियों को आव्हान किया कि वे सबसे पहले श्री गोविन्द माधव के चित्र पर पुष्प अर्पित करें, उन्हे प्रणाम कर, सुयोग्य जीवन साथी के लिए भगवान से प्रार्थना कर भारतीय संस्कृति का पालन करें ततपश्चात अपने परिचय से सदन को परिचित करावें ताकि आपकी रू2 (2)परेखा, बुध्दि कौशल, सम्प्रेषण की कला एवं आचार, विचार और व्यवहार को देखकर वे जीवन साथी चयन के लिए वे अपना मन बना सके। इसके बाद प्रत्याशीयों को मंच पर बुलाने हेतु कु. सलोनी शुक्ला ने अपने चुटीले अन्दाज में शेरो शायरी के साथ आगाज किया और युवा युवती प्रत्याशी भी उत्साह के साथ लगातार मंच पर आकर अपनी प्रतिभा का जलवा दिखाने लगे। सभी ने अपने विशेष अन्दाज में अपनी भावनाओं को व्यक्त कर युवा युवतियों के उत्साह को बढाया तथा आने वाले समय में अधिकाधिक संख्या में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने का भी आव्हान किया। उनके व्दारा समाजजनों को भी सन्देश दिया गया कि वे भी सामाजिक आयोजनों को इसी प्रकार आगे बढाने में अपना पूरा सहयोग देगे। इसी बीच सर्व ब्राहमण परिचय सम्मेलन में पधारे मध्यप्रदेश शासन के उर्जा मंत्री श्री राजेन्द्र जी शुक्ल ने जब औदीच्य ब्राहमण समाज के सम्मेलन के बारे में सुना तो प्रेमछाया परिसर में आकर जनसमुदाय व यहां की सभी व्यवस्थित व्यवस्थाओं को देखकर बडे प्रभावित हुवे। मंच पर समिति ने आपका स्वागत किया। अपने स्वागत भाषण में आपने समिति सहित सबका अभिवादन करते हुए श्री रघुनन्दन जी शर्मा के नेतृत्व में होने वाले इस आयोजन की भूरि भूरि प्रशंसा की । आपने कहा की श्री शर्मा के इस क्षेत्र में आते सारा क्षेत्र बडा सुकून महसूस करता है। दोपहर तक लगभग 75 नवीन प्रविष्ठयां प्राप्त हो चुकी थी, समय से पूरक प्रविष्ठयों की सूचि देने के कारण कई अतिथियों को बाद में मना करना पडा इसका महत्वपूर्ण कारण उज्जैन के परिचय सम्मेलन की देश विदेश में सम्मानजनक साख है। कार्यक्रम के अन्त में आभार श्री अजेन्द्र त्रिवेदी ने माना।

   परिचय सम्मेलन की सफलता के पीछे श्री वृन्दावन व्यास गुना, कौशल किशोर भट्ट टीकमगढ, प्रेमशंकर पण्डया, ओमप्रकाश पण्ड्या, सुभाष पण्ड्या, हरिसिंह पण्ड्या, श्याम सुन्दर त्रिवेदी, निशिकान्त व्यास, भगवानसिंह उपाध्याय, जगदीश शर्मा देवास, सत्यनारायण पाण्डेय, शरद त्रिवेदी, शिव काका, रामेश्वर पण्ड्या, प्रमोद जोशी, राजेन्द्र शर्मा, चेतन जोशी, सुभाष गौर, राधेश्याम जोशी, चन्द्रशेखर जोशी, महेश व्यास, हेमन्त व्यास, विष्णु ठक्कर, अतुल पण्डित, नरेन्द्र पण्ड्या, सुभाष शर्मा, सुशील शर्मा, गजेन्द्र रावल, मयंक जोशी, अभिषेक पण्ड्या, आशीष त्रिवेदी, रवि ठाकुर, वासुदेव रावल, जानकीलाल, दिनेश पण्ड्या, ओम जोशी, भरत व्यास, मनोज त्रिवेदी, दीपक आचार्य, रूपेश मेहता, प्रदीप पाठक, आदित्य आचार्य, आदित्य उपाध्याय, अंकित शर्मा, विशाल त्रिवेदी, विकास त्रिवेदी, मनीष रावल, विशाल मेहता, दिव्यांश जोशी, प्रणव व्यास, अवि आचार्य, वरूण पण्ड्या, राजेश शास्त्री, व्दारकेश व्यास, अभिलेष ठक्कर, रवि शर्मा मांगलिया मित्र मण्डल, ललित शर्मा, संदीप शर्मा, ।

श्रीमती तारामणी त्रिवेदी, श्रीमती सुषमा व्यास, पूर्णिमा दवे, निशा रावल, स्नेहलता दवे, मृणालिनी उपाध्याय, रमा पण्ड्या, मंजू पण्डया, शोभा पाठक, मंजुला जोशी, पूर्णिमा अवस्थी, संध्या पण्ड्या, इन्दिरा त्रिवेदी, इन्दिरा जोशी, किरण पण्ड्या, शैलजा पण्ड्या, मंजूला मेहता, अम्बिका पण्ड्या, विध्या उपाध्याय, सरोज शर्मा, सीमा व्यास, विष्णुकांता पण्ड्या, पुष्पलता भटट, राधिका रावल, सुचित्रा मेहता, शोभना मेहता, रश्मि जोशी, रूपाली त्रिवेदी, स्मिता पाठक, आदि!

   इन्दौर से श्री ओम ठाकुर, धर्मेन्द्र रावल, अरूण उपाध्याय, प्रकाश जोशी, उल्हास ठक्कर, धीरेन्द्रमोहन जोशी, निखिलेश जोशी आदि! मागलिया जिला इन्दौर से श्री संदीप शर्मा मे नेतृत्व में युवा टीम ने आकर आयोजन की गरिमामय को उर्जा प्रदान की ।

विशेष रूप से समाज के युवा कार्यकर्ता चेतन जोशी उज्जैन का उल्लेख करना आवश्यक है जिन्होने अपने अथक प्रयास और मेहनत से वेबसाईड audichyabandhu.org बनाई है, जिसमें समस्त सामाजिक गतिविधयों के साथ अविवाहित युवा युवतियों की जानकारी का भी उल्लेख किया जा रहा है।

    इस आयोजन में उज्जैन, महिदपुर, बडनगर, रतलाम, तराना, शाजापुर, देवास, नागदा के साथ अन्य जिलो के समाजजनों ने उपस्थित होकर आयोजन को सफल बनाया। कई ऐसे नाम भी हैं जिनका उल्लेख नहीं हो पाया है तथा उनके व्दारा आयोजन की सफलता में अपना पूर्ण सहयोग दिया उनसे क्षमा प्रार्थना । श्री श्याम मेहता अध्यक्ष परिचय सम्मेलन समिति ने ज्ञात अज्ञात रूप में सम्मेलन की सफलता के लिए जिन्होने सहयोग दिया उन सभी का आभार माना। भोजनोपरान्त, अगले वर्ष 20 दिसम्बर 2015 को परिचय सम्मेलन की घोषणा के साथ सम्मेलन समाप्त हुआ ।

1060total visits,2visits today

About Uddhav Joshi

उद्धव जोशी - एफ 5/20 एलआयजी ऋषिनगर उज्जैन -uddhavjoshi1946@gmail.com

अवश्य देखें

नो उल्लू बनाविंग

बडे जोर शोर से धूम मचा रहा है एक स्लोगन ‘‘ नो उल्लू बनाविंग‘‘, क्यों …