हमारे बारे में

अखिल भारतीय औदीच्य महासभा 

अखिल भारतीय औदीच्य महासभा का शुभारंभ आषाढ क्रष्णपक्ष 10 संवत 1960 सन 1903 में मथुरा में हुआ था। अब तक अखिल भारतीय औदिच्य महासभा का जीवन काल एक सौ दस वर्ष से अधिक का हो चूका है। स्थापना के 20 वर्ष पूर्व गुजरात में रा.रा. मेहता प्राण गोविन्द राजाराम जी ठाकर जैसे महानुभावों के प्रयास से अखिल भारतीय औदीच्य् ब्रहम समाज की स्थापना हो चुकी थी। वर्तमान यह नामकरण “अखिल भारतीय औदीच्य महासभा” 1930 में रखा गया था।

औदीच्य बंधु पत्रिका — अखिल भारतीय औदीच्य महासभा का मुखपत्र “औदीच्य-बंधु” के नाम से मासिक पत्रिका का प्रकाशन सान 1926 से प्रारम्भ हुआ था ।  {औदीच्य एम पी डिजिटल लाइब्रेरी  प्रकाशित सभी प्रकाशन के लिए क्लिक करें।} इसके भी (औदीच्य बंधु पूर्व पीठ के रूप में इससे दो वर्ष पूर्व अगस्त 1924 [संवत 1981] से “औदीच्य-ब्रह्मण ” नामक मासिक पत्र प्रारम्भ हुआ था। इसका विलय औदिच्य बंधु में कर दिया गया।

 

हमारे बारे में और भी  जानने के लिए देखें लिंकअखिल भारतीय औदिच्य महासभा 

805total visits,3visits today