औदीच्य गौरव

घर छोड़ कर क्यों भागना पड़ा-ऋषि दयानन्द का स्वलिखित जीवनवृत – द्वितीय भाग|

घर छोड़ कर क्यों भागना पड़ा –ऋषि दयानन्द का स्वलिखित जीवनवृत – द्वितीय भाग मैं स्वामी दयानन्द सरस्वती संक्षेप से अपना जन्म चरित्र लिखता हूँ।। जब माता पिता ने मुझे बुला के विवाह की तैयारी कर दी तब तक 21 इक्कीसवां वर्ष भी पूरा हो गया।  तब मैंने निश्चित जाना …

Read More »

ऋषि दयानन्द का स्वलिखित जीवनवृत – (प्रथम भाग)

ऋषि दयानन्द का स्वलिखित जीवनवृत – (प्रथम भाग) (डा. रत्नकुमारी स्वाध्याय संस्थान कृत ‘महर्षि दयानन्द जीवन वृत और कृतित्व’ से साभार उदृत‌).प्रस्तुत कर्ता – डॉ मधु सूदन व्यास उज्जैन मैं स्वामी दयानन्द सरस्वती संक्षेप से अपना जन्म चरित्र लिखता हूँ।। संवत 1881 के वर्ष में मेरा जन्म दक्षिण गुजरात प्रान्त …

Read More »